विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग
 
प्रो. जगदम्बा प्रसाद दीक्षित नहीं रहे (विविध)     
Author:भारत-दर्शन संकलन

22, मई, 2014: मात्र एक उपन्यास से हिंदी साहित्यकार के रूप में प्रतिष्ठित हुए प्रो. जगदम्बा प्रसाद दीक्षित नहीं रहे। जर्मनी के शहर बर्लिन में उनका देहांत हो गया।

श्री दीक्षित का जन्म 1935 में बालाघा‌ट (म. प्र) में हुआ था। स्व. दीक्षित मुंबई के सैंट जेवियर्स कॉलेज में हिंदी के प्रोफ़ेसर रहे हैं।

मुरदा-घर, कटा हुआ आसमान व इतिवृत्त उपन्यासों के अतिरिक्त एक कहानी-संग्रह, 'शुरुआत और अन्य कहानियाँ' आपकी मुख्य कृतियां थी।

मुरदा-घर में सामाजिक विसंगतियों और विषमताओं का यथार्थपूर्ण चित्रणकिया गया था। इसमें वर्तमान राज्य-तन्त्र के आमानवीय रूप को भी उकेरा गया।

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश

Deprecated: Directive 'allow_url_include' is deprecated in Unknown on line 0