हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।
राजगोपाल सिंह की ग़ज़लें (काव्य)    Print  
Author:राजगोपाल सिंह
 

राजगोपाल सिंह की ग़ज़लें भी उनके गीतों व दोहों की तरह सराही गई हैं। यहाँ उनकी कुछ ग़ज़लें संकलित की जा रही हैं।

 

गज़ल

चढ़ते सूरज को लोग जल देंगे
जब ढलेगा तो मुड़ के चल देंगे

मोह के वृक्ष मत उगा ये तुझे
छाँव देंगे न मीठे फल देंगे

गंदले-गंदले ये ताल ही तो तुम्हें
मुस्कुराते हुए कँवल देंगे

तुम हमें नित नई व्यथा देना
हम तुम्हें रोज़ इक ग़ज़ल देंगे

चूम कर आपकी हथेली को
हस्त-रेखाएँ हम बदल देंगे

- राजगोपाल सिंह

Back
More To Read Under This

 

इन चिराग़ों के | ग़ज़ल
मैं रहूँ या न रहूँ | ग़ज़ल
अजनबी नज़रों से | ग़ज़ल
मौज-मस्ती के पल भी आएंगे | ग़ज़ल
काग़ज़ी कुछ कश्तियाँ | ग़ज़ल
जितने पूजाघर हैं | ग़ज़ल
लूटकर ले जाएंगे | ग़ज़ल
बग़ैर बात कोई | ग़ज़ल
आजकल हम लोग ... | ग़ज़ल
तू इतना कमज़ोर न हो
ऐसे कुछ और सवालों को | ग़ज़ल
धरती मैया | ग़ज़ल
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें