भाषा विचार की पोशाक है। - डॉ. जानसन।

बाल-कविता संकलन (बाल-साहित्य )

Print this

Author: भारत-दर्शन संकलन

बाल-कविताओं का संग्रह [Poetry for Kids]

इस संकलन में ऐसी बाल कविताएँ सम्मिलित हैं जो पूरी तरह से बाल मनोविज्ञान के अनुरूप हैं। यहाँ लोकप्रिय कवियों द्वारा बच्चों के लिए लिखी गई प्रसिद्ध बाल कविताएं प्रकाशित की गई हैं। हमारा प्रयास है कि बच्चों के लिए यहाँ ऐसी सामग्री प्रकाशित की जाएं जो बच्चों के लिए रूचिकर व सरल हों।

यहाँ कबीर, सूर, रैदास, रहीम, रबीन्द्रनाथ, संत तुकड़ोजी, श्रीधर पाठक, मैथिलीशरण गुप्त, अयोध्यासिंह उपाध्याय, निरंकारदेव, दिनकर, सुभद्राकुमारी, भगवतीचरण वर्मा, हरिवंशराय, सोहनलाल द्विवेदी, चिरंजीत, शरतचंद्र, पुरुषोत्तम तिवारी, जयप्रकाश भारती, प्रकाश मनु,  क्षेत्रपाल, आनन्द विश्वास इत्यादि का बाल काव्य (Hindi poetry for kids) प्रकाशित किया गया है।

बाल कथाएंबाल कहानियाँ पढ़ने के लिए बाल-कहानी पृष्ठ देखें।

यदि आप बाल साहित्य का सृजन करते हैं तो अपनी रचनाएं अवश्य हमें भेजें।


Back

Other articles in this series

मामी निशा | बाल-कविता
बतूता का जूता
म्याऊँ-म्याऊँ
साखियाँ
काश हम जंगल में रहते
फूलों का गीत
सरल पुकार
हमारे अनोखे साथी
हो हो होली
दही-बड़ा
मिठाईवाली बात
बरखा बहार
पद
पद
दोहे
छोटी-सी हमारी नदी
हर देश में तू, हर भेष में तू
बाबा आज देल छे आए
नाच रहा जंगल में मोर | बाल कविता
बन्दर मामा | बाल कविता
माँ कह एक कहानी
बारिश की मस्ती | बाल कविता
एक तिनका
मंजुल भटनागर की बाल-कविताएं | बाल कविता
गिलहरी
बादल और बारिश | बाल कविता
भैया-बहना | बाल कविता
बंदर
हमसे सब कहते
मोर
कौन?
गुरु और चेला
चिन्टू जी
रेल | बाल कविता
गिलहरी का घर | बाल कविता
खिलौनेवाला
हम दीवानों की क्या हस्ती
चाँद का कुरता
फूलों जैसे उठो खाट से | बाल गीत
काम हमारे बड़े-बड़े
मीठी वाणी | बाल कविता
बुरा न बोलो बोल रे
पीछे मुड़ कर कभी न देखो | बालगीत
प्रयास करो, प्रयास करो
मामा आए, मामा आए | शिशु कविता
सर्दी का सूरज
उड़ान
बारह महीने
दादी | बाल-कविता
पानी की बर्बादी
हम होंगे सबमें पास
चिड़िया की हेल्थ
मैं भी पढ़ने जाऊँगा
हरी सब्जियॉं
गर मै रहता सागर नीचे
मेंढकी का ज़ुकाम
राजा-रानी
हाथ उठा नाची तरकारी
तितली
मीठा झगड़ा
वचनामृत
कौन
चिड़िया का गीत
कहो मत, करो
नकली और असली
सबसे बढ़कर
ऐसे सूरज आता है
जामुन
दो बाल कविताएं
माँ मारेंगी !
हमारा वतन दिल से प्यारा वतन
नानी कहती एक कहानी
प्रीता व्यास की दो बाल ग़ज़लें
नवयुग के प्रणेता
चार बाल गीत
मोटा लाला
हाथी चल्लम-चल्लम
हमको फिर छुट्टी
तितली
मिठाईवाली बात
चाँद की सैर
 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें