अकबर से लेकर औरंगजेब तक मुगलों ने जिस देशभाषा का स्वागत किया वह ब्रजभाषा थी, न कि उर्दू। -रामचंद्र शुक्ल

सुनिए तो - आंकड़े बोलते हैं (विविध)

Print this

Author: रोहित कुमार हैप्पी

इन पृष्ठों में उन तथ्यों को उपलब्ध करवाया जाएगा जो जनहित में हैं और अन्यत्र सरल सुलभ नहीं।

Back

Other articles in this series

घोषणा पत्र | Manifesto
लोकसभा चुनाव 2019
दुरुपयोग की जाने वाली संपत्ति ज़ब्त
 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें