नागरी प्रचार देश उन्नति का द्वार है। - गोपाललाल खत्री।

व्यंग्य

हिंदी व्यंग्य. Hindi Satire.

Article Under This Catagory

कुछ नहीं होने की पीड़ा - लतीफ़ घोंघी

कुछ नहीं हुआ। कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। नगर शांत रहा। इन सभी स्थितियों से वे दुःखी थे। उनके चेहरे पर कुछ नहीं होने की पीड़ा थी।

 
भेजो - नरेन्द्र कोहली

"हुजूर! ख़बर आई है कि हमारे लोगों ने भारतीय कश्मीर में पच्चीस हिंदू तो मार ही दिए हैं। ज़्यादा हों तो भी कुछ कहा नहीं जा सकता। उन्होंने दो-दो साल के बच्चे भी मार गिराए हैं।”

 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें