मुस्लिम शासन में हिंदी फारसी के साथ-साथ चलती रही पर कंपनी सरकार ने एक ओर फारसी पर हाथ साफ किया तो दूसरी ओर हिंदी पर। - चंद्रबली पांडेय।

सात सागर पार

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 जोगिन्द्र सिंह कंवल | फीजी

सात सागर पार करके भी ठिकाना न मिला
सौ साल प्यार करके भी निभाना न मिला

कई जनमों से तो बिछड़े थे एक मां से हम
दूसरी मां के आंचल में भी सिर छिपाना न मिला

पीढ़ियां खेली हैं ऐ देश तेरी गोद में
फिर भी तेरी ममता का हमें नजराना न मिला

हम ने बंजर धरती में खिला दिए रंगीन फूल
तेरी पूजा के लिये दो फूल चढ़ाना न मिला

खून पसीने से बनाया था जन्नत का चमन
इस की किसी डाल पर भी आशियाना न मिला

हम तो पागल हो गये मंजिलों की खोज में
इतनी भटकन के बाद भी कोई ठिकाना न मिला

हम ने क्या पाप किया समझ में आता नहीं
वर्षों की लगन का हमें, कोई इवज़ाना न मिला

- जोगिन्द्र सिंह कंवल, फीज़ी

 

सनद रहे: जोगिन्द्र सिंह कंवल फीज़ी के प्रतिष्ठित कवि हैं। उनकी यह कविता प्रवासी भारतीयों की व्यथा-कथा है। फीज़ी ने चार तख्ता पलट झेले है जिसमें भारतवंशियों को बहुत हानि उठानी पड़ी। अपनी मातृ-भूमि से बिछुड़ना और नयी धरती पर जड़े न जम पायें तो कलम का ऐसा क्रंदन स्वाभाविक है।  - संपादक

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश