हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।

बसा ले अपने मन में प्रीत | गीत (काव्य)

Print this

Author: हफीज़ जालंधरी 

बसा ले अपने मन में प्रीत। 
मन-मन्दिर में प्रीत बसा ले, 
ओ मूरख ओ भोले भाले, 
दिल की दुनिया कर ले रोशन, 
अपने घर में जोत जगा ले, 
प्रीत है तेरी रीत पुरानी, 
भूल गया ओ भारतवाले! 

भूल गया ओ भारतवाले, 
प्रीत है तेरी रीत। 
बसा ले अपने मन में प्रीत। 

क्रोध-कपट का उतरा डेरा, 
छाया चारों खूँट अँधेरा, 
शेख-बरहमन दोनों डाकू, 
एकसे बढ़कर एक लुटेरा। 
ज़ाहिरदारों की संगत में, 
कोई नहीं है संगी तेरा, 

कोई नहीं है संगी तेरा, 
मन है तेरा मीत, 
बसा ले अपने मन में प्रीत।

भारत माता है दुखियारी, 
दुखियारे हैं सब नरनारी, 
तुही उठा ले सुन्दर मुरली,
तू ही बन जा श्याम मुरारी । 
तू जागे तो दुनिया जागे, 
जाग उठें सब प्रेम पुजारी, 

जाग उठें सब प्रेम पुजारी, 
गाएँ तेरे गीत, 
बसा ले अपने मन में प्रीत। 

नफरत इक आज़ार है प्यारे, 
इसकी दारू प्यार है प्यारे, 
आ जा असली रूप में आ जा, 
तू ही प्रेम अवतार है प्यारे। 
यह हारा, तो सब कुछ हारा, 
मनके हारे हार है प्यारे, 

मनके हारे हार है प्यारे, 
मनके जीते जीत, 
बसा ले अपने मन में प्रीत।

-हफीज़ जालंधरी 


शब्दार्थ 
रुत - ऋतु, मौसम, Season. 
निखारे - स्वच्छ करे To cleanse, To brighten. 
ढा दे- गिरा दे, Te Demolish. 
चरका देना - धोका देना, मूर्ख बनाना, To fool. 
तराज़ू – तुला, Balance. 
अनमोल - जिसका कोई मोल न हो, Price-less, Beyond price. 
को-कौन, Who. 
खूँट – कोने, Corner. 
दारू - इलाज, दवा, Remedy.

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश