हिंदी हिंद की, हिंदियों की भाषा है। - र. रा. दिवाकर।
मैं दिल्ली हूँ | चार (काव्य)    Print  
Author:रामावतार त्यागी | Ramavtar Tyagi
 

क्यों नाम पड़ा मेरा 'दिल्ली', यह तो कुछ याद न आता है ।
पर बचपन से ही दिल्ली, कहकर मझे पुकारा जाता है ॥

इसलिए कि शायद भारत भारत जैसे महादेश का दिल हूँ मैं ।
धर्मों की रीति रिवाज़ों की, भाषाओं की महफ़िल हूँ मैं ॥

बारहवीं सदी की याद कभी, जब भी मुझको आ जाती है ।
मीठी सी एक चुभन बनकर, सपना जैसा छा जाती है ॥

वह समय कि जब चौहानों के, यश वैभव का कुछ अंत न था ।
वह राजा पृथ्वीराज प्रतापी, साधारण सामन्त न था ॥

भारत की धरती पर तब उस जैसा था कोई धीर नहीं ।
उस जैसा कोई शब्द-भेदने, वाला देखा वीर नहीं ॥

हर ओर उसी का हल्ला था, घर-घर उसकी चर्चाएँ थीं ।
महलों में या चौपालों में, उसकी ही सिर्फ कथाएँ थीं ॥

संयुक्ता जैसी रुपवती, उसकी मनचाही रानी थी ।
जिसकी सुन्दरता देख स्वयं, सुन्दरता को हैरानी थी ॥

कवि चन्द्र कि जिसकी कविता से, सारा ही देश महकता था ।
जिसके शब्दों में बिजली थी, स्वर में अंगार दहकता था ॥

वह आदि महाकवि हिन्दी का, वह वीर शिरोमणि बलिदानी ।
वह पृथ्वीराज का मित्र, राजकवि; मेरो आँखों का पानी ।।

उसने 'रासो' को रच करके, मेरा सम्मान बढ़ाया था ।
उसने वीरों को साहस का, गौरव का; पाठ पढ़ाया था ।।

वह राजा पूथ्वीराज नहीं, मेरी आँखों का तारा था ।
हाँ; सोलह बार मुहम्मद गौरी, उसके हाथों हारा था ।।

मेरी रक्षा की थी, मेरे ही; बेटों की तलवारों ने ।
मेरी लाज रखी थी मेरे, अपने राजकुमारों ने ।।

सोलह बार मुहम्मद गौरी, पीठ दिखाकर भागा था ।
लेकिन मेरी किस्मत में तो, शायद अंधियारा जागा था ।।

दुर्दिन के आते ही भाई-भाई में ऐसी फूट पड़ी ।
बदनाम गुलामी की बिजली, मेरे आँगन में टूट पड़ी ।।

गौरी की सेना के आगे, मेरा राजा भी हार गया ।
किस्मत का तारा डूब गया, मेरा सारा श्रृंगार गया ।।

मरघट का हाहाकार मुझे, हर ओर सुनाई देता था ।
मेरी गलियों में देता था, बस खून दिखाई देता था ।।

- रामावतार त्यागी

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश