अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
डूब जाता हूँ मैं जिंदगी के (काव्य)    Print  
Author:अभिषेक गुप्ता
 

डूब जाता हूँ मैं ज़िंदगी के
उन तमाम अनुभावों में
जब खोलता हूँ अपने जहन की
एल्बम पन्ना दर पन्ना और
जब झांकता हूँ उन यादों में

कुछ यादें सकूं देती हैं
कुछ यादें परेशान करती हैं
कुछ प्रतिशोध की आग में जलाती हैं
तो कहीं कुछ हौसला भी पाता हूँ
जब झांकता हूँ उन यादों में

कहीं कुछ पाने की ख़ुशी है
तो कहीं कुछ खोने का भी है ग़म
कहीं भरोसे का मरहम है तो
कहीं छले जाने का मातम
कहीं दुश्मनों की कतार है
तो कहीं कुछ दोस्त भी पाता हूँ
जब झांकता हूँ उन यादों मैं

कहीं बचपन की नासमझी है
तो कहीं जवानी में समझदार होने का दिखावा
कहीं पुरानी परम्पराओं को तोड़ने की जिद है
तो कहीं दुनिया से अलग महसूस होने का छलावा
कहीं कुछ बदगुमानिया हैं
तो कहीं कुछ संस्कार भी पाता हूँ
जब झांकता हूँ उन यादों मैं


- अभिषेक गुप्ता

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश