विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
अपनों की बातें (काव्य)       
Author:प्रीता व्यास | न्यूज़ीलैंड

बातें उन बातों की हैं
जिनमें अनगिन घातें थीं,
बातें सब अपनों की थीं।

अपनों की थीं सो चुभती थीं,
चुभती थीं सो दुखती थीं,
दुखती थीं पर सहनी थीं,
सहना ही तो मुश्किल था।

मुश्किल से पार उतरना था
जीवन था और जीना था।

जीना था सो ठान लिया
ना दुखना है, ना रोना है,
ना टुकड़ा- टुकड़ा होना है,
ना हार के ऐसी बातों से
अपने आप को खोना है।
सौ जतन किये
सब झेल गए,
आखिर बचा लिया खुद को।

छोटी- मोटी पटकन- चटकन
छोटी- मोटी टूटन- फूटन
लेकिन बचा लिया खुद को।


जैसे, जितने, जो भी बचे हैं
खुद को ही शाबासी दे कर
तनहा बैठे सोच रहे हैं
बिन अपनों के करेंगे क्या
इस बचे हुए का?

 

-प्रीता व्यास
 न्यूज़ीलैंड

 

 

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश