विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
जवाब (काव्य)       
Author:डॉ सुनीता शर्मा | न्यूज़ीलैंड

दोहराता रहेगा इतिहास
भी युगों-युगों तक यह
दुर्योधन - दुशासन की
कुटिल राजनीति की
बिसात पर खेली गयी
द्रौपदी चीर-हरण जैसी
प्रवासी मजदूरों की
अनोखी कहानी,
जब पूरी सभा रही मौन
और मानवता - सिसकती
व कराहती हुई
दम तोड़ती रही थी...
इन प्रश्नों का जवाब
एक दिन ये पीढ़ी तुमसे
अवश्य मांगेगी...
मांगेगी अवश्य।

-डॉ॰ सुनीता शर्मा 
 ऑकलैंड, न्यूज़ीलैंड 
 ई-मेल: adorable_sunita@hotmail.com

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश