यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
सुहाना सहाना लगे | गीत (काव्य)    Print  
Author:अनिता बरार | ऑस्ट्रेलिया
 

सुहाना सहाना लगे
यह मौसम, यह रिमझिम
यह सरगम, यह गुंजन
यादों के बीच चले जब बचपन
सुहाना सूहाना लगे यह मौसम यह रिमझिम

मदहोश लहरों से सतरंगी सपने
आँखों में ठहरे साँझ सवेरे
धरती को चूमें अमुवा की डालें
बहकी फिजाओं में खुशबू के डेरे
पेड़ों के झुरमुट तले,
यह पंचम, यह थिरकन, यह झनझन, यह उन्मन
मेघा के बीच चले जब बचपन
सुहाना सूहाना लगे यह मौसम यह रिमझिम

कजरारे बादल में उलझे ये चंदा
ढ़ूंढ रहा है अपना यह रस्ता
धुंधले पहाड़ों से ठंडी हवायें
आँख मिचौली करें साँझ सकारे
खामोशियों के तले
यह सिहरन, यह धड़कन, यह कम्पन, यह तड़पन
शबनम के बीच चले जब बचपन
सुहाना सुहाना लगे यह मौसम यह रिमझिम


- अनिता बरार
  ई-मेल: anita.barar@gmail.com
  ( सी डी संकलन - दूरियाँ, 2000)

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश