हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।
दो-चार बार... | ग़ज़ल (काव्य)    Print  
Author:कुँअर बेचैन
 

दो-चार बार हम जो कभी हँस-हँसा लिए
सारे जहाँ ने हाथ में पत्थर उठा लिए

रहते हमारे पास तो ये टूटते ज़रूर
अच्छा किया जो अपने सपने चुरा लिए

चाहा था एक फूल ने तड़पें उसी के पास
हम ने ख़ुशी से पेड़ों में काँटे बिछा लिए

आँखों में आए अश्क ने आँखों से ये कहा
अब रोको या गिराओ हमें हम तो आ लिए

सुख जैसे बादलों में नहाती हूँ बिजलियाँ
दुख जैसे बिजलियों में ये बादल नहा लिए

जब हो सकी न बात तो हम ने यही किया
अपनी ग़ज़ल के शेर कहीं गुनगुना लिए

अब भी किसी दराज़ में मिल जाएँगे तुम्हें
वो ख़त जो तुम को दे न सके लिख-लिखा लिए

- कुंअर बेचैन

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें