दक्षिण की हिंदी विरोधी नीति वास्तव में दक्षिण की नहीं, बल्कि कुछ अंग्रेजी भक्तों की नीति है। - के.सी. सारंगमठ

विदा होता है वह (काव्य)

Print this

Author: विदा होता है वह | कविता

मेरी हथेली पर छोड़ कर
अपने गर्म होंठों के अहसास
मेरे साथ खुद को भी बहलाता है
तब विदा होता है वह
मैं अन्यमनस्क सी
देखती हूँ अपनी हथेली
वक्त के रुकने की दुआ करती सी
वक्त और तेज़ी से भागने लगता है
और फिर
धीरे से मेरा हाथ मेरी गोद में रखकर,
हौले से पीठ थपथपाता है
फिर विदा होता है वह।

बढ़ता, गहराता, इठलाता, खूबसूरत प्रेम
जो मेरे बदन से लिपटी
रेशमी साड़ी सा ‘मुलायम,
घर में बिछे क़ालीन सा शालीन,
भारी-भरकम वेलवेट के गद्दों सा गुदगुदा एहसास
और
मेरी हथेली पर नमी
ये सब बिखरा कर जाता है
जब विदा होता है वह।

इमली के पेड़ पर उड़ती चिड़िया,
आवारा ख्वाब बुनती दो जोड़ी आँखें
मूक गीत गुनगुनाता है
यूं विदा होता है वह
कहीं नहीं जा पाता
पर विदा होता है वह।

-सुनीता शानू, भारत 

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश