राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'

सांईं की कुण्डलिया (काव्य)

Print this

Author: सांईं

सांईं बेटा बाप के बिगरे भयो अकाज। 
हरिनाकस्यप कंस को गयउ दुहुन को राज॥ 
गयउ दुहुन को राज बाप बेटा में बिगरी। 
दुश्मन दावागीर हँसे महिमण्डल नगरी॥ 
कह गिरधर कविराय युगन याही चलि आई। 
पिता पुत्र के बैर नफ़ा कहु कौने पाईं॥

सांईं बैर न कीजिये गुरु पण्डित कवि यार।
बेटा बनिता पौरिया यज्ञ करावन हार॥ 
यज्ञ करावन हार राजमन्त्री जो होई। 
विप्र परोसी वैद्य आप को तपै रसोई॥ 
कह गिरधर कविराय युगन से यह चलि आई। 
इन तेरह सों तरह दिये बनि आवे सांईं॥

सांईं ऐसे पुत्र ते बाँझ रहे बरु नारि। 
बिगरी बेटे बाप से जाइ रहे ससुरारि॥
जाइ रहे ससुरारि नारि के हाथ बिकाने। 
कुल के धर्म नसाय और परिवार नसाने॥  
कह गिरधर कविराय मातु झंखे वहि ठाईं। 
असि पुत्रिन नहिं होय बांझ रहतिउँ बस सांईं।

सांईं तहाँ न जाइए जहाँ न आपु सुहाय। 
वरन विषै जाने नहीं, गदहा दाखै खाय॥ 
गदहा दाखै खाय गऊ पर दृष्टि लगावै। 
सभा बैठि मुसकाय यही सब नृप को भावै॥
कह गिरधर कविराय सुनो रे मेरे भाई। 
तहाँ न करिये बास तुरत उठि अइये सांईं॥

-सांईं


विशेष: सांईं गिरिधर कविराय की स्त्री थीं। गिरिधर जी के नाम से मशहूर कुण्डलियाँ दो प्रकार की हैं-- एक वे जिनमें सांई शब्द है और दूसरी जिनमें साँई शब्द नहीं है। अनुमान है कि सांईं शब्द वाली कुण्डलियाँ कविराज गिरिधर की नहीं बल्कि उनकी पत्नी सांईं की हैं। उन्हीं की कुछ कुण्डलियाँ यहाँ उद्धृत की गई हैं।

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश