इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।

लिखना ज़रूरी है... (काव्य)

Print this

Author: डॉ॰ साकेत सहाय

मैं बहुत कम कविताएँ लिखता हूँ, आज एक उपहार लिफाफ़े पर इस सुंदर हस्तलेखनी को देखा तो मन में कुछ भाव आए।

लिखना ज़रूरी है
खूब लिखिए
कागज और कलम की
बुनियाद
मज़बूत कीजिए।
क्योंकि
लिखना ज़रूरी है…

भाव के लिए
विचार के लिए
संवाद के लिए
जुड़ाव के लिए

प्रसार के लिए
प्रस्तुति के लिए
प्रभाव के लिए
प्रमोद के लिए
प्रमाण के लिए

लिखना भाषाओं को
आत्मीयता देता हैं
लिपियों को
जीवंतता

व्याकरण को भाव
और भाषा को परिधान
परिष्कार
और संस्कार
और अनुशासन भी

खूब लिखिए
जो लिखेगा
वो जागेगा
जो जागेगा
वो जगाएगा

जो जगाएगा
वो सुंदर, मधुर
और सुखद होगा

सुंदर, मधुर और सुखद
भाव के संयोग से
समृद्ध विचार
जाग्रत होते हैं

लिखना
सुखद एहसास
देते हैं

क्योंकि
जब तक लेखनी है
तब तक हम और आप
आदमी हैं।

-डॉ॰ साकेत सहाय

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश