हिंदी को तुरंत शिक्षा का माध्यम बनाइये। - बेरिस कल्यएव

यह कैसा दौर है (काव्य)

Print this

Author: सोम नाथ गुप्ता

वो मिट्ठा ज़बान का
मैं कड़वा करेला
मैं कह दूँ खरी-खरी
वो करे झमेला

कौन जाने
किसके मन में है क्या
कोई क्या सोचे
कोई क्या तोले
हर कोई चाहता है
पर लूटना मेला

गर्दिशों का दौर है
हर तरफ़ शोर है
करे कोई और
भरता कोई और है

सितम पुरज़ोर है
मुफ़्लिस कमज़ोर है
दानिशमंद डरपोक है
मुँह खोले न कोई सामने
पीठ पीछे हर कोई शेर है
‘दीवाना’ कैसा यह दौर है
यह कैसा दौर है

-दीवाना रायकोटी
(सोम नाथ गुप्ता)


*शब्दार्थ :
झमेला=झगड़ा(dispute)
गर्दिश=दुर्भाग्य(misfortunes)
दौर=काल चक्र(periodicity)
सितम=अत्याचार (oppression)
पुरज़ोर=जोरदार(emphatic)
मुफ़्लिस= गरीब(poor)
दानिशमंद=बुद्धिमान(wise)

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश