हिंदी को तुरंत शिक्षा का माध्यम बनाइये। - बेरिस कल्यएव

इन्द्र-धनुष (काव्य)

Print this

Author: मंगलप्रसाद विश्वकर्मा

घुमड़-घुमड़ नभ में घन घोर,
छा जाते हैं चारों ओर
विमल कल्पना से सुकुमार
धारण करते हो आकार!
अस्फुट भावों का प्राणों में,
तुम रख लेते हो गुरु भार!!

उन भावों का रूप सजीव,
तुम में होता प्रगट अतीव
विविध विमल रंगों में तान,
किसके उर के प्रिय उद्गार,
तुम से उद्गम हो जाते हैं,
हे अजान ! निश्छल अविकार?
तुम हो किसकी छवि का रूप,
अहे अभिनव ! मेरे अनुरूप?

मैं हूँ तुम सा ही अज्ञान,
मुझे नहीं है अपना ज्ञान,
नहीं जानता किसकी छविका,
सार मिला है मुझको दान!

-मंगलप्रसाद विश्वकर्मा

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश