समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

जड़ें (काव्य)

Print this

Author: ममता मिश्रा 

जड़ों में गढ़ के पड़े रहने से 
नवांकुर नहीं फूटते 
जैसे जागने पर स्वप्न नहीं टूटते 
वह तो टूटा करते हैं 
सोने से !

जड़ों को पकड़िए मगर 
ऊपर चढ़ने के लिए 
आगे बड़ने के लिए 
ना कि 
रुक कर सड़ने के लिए !!

जड़े सिखाती हैं 
समर्पण, धेर्य
पालन, प्रेम
और देती हैं पहचान 
जड़ आपकी संस्कृति,
आपकी गौरवान्वित सभ्यता,
अब चाहती है आपसे 
उसका भटका हुआ मान 
उसका बिसरा दिया 
स्वाभिमान !!!

- ममता मिश्रा 
  नीदरलैंड्स

*ममता मिश्रा नीदरलैंड्स की निवासी हैं और हिन्दी में भावपूर्ण रचनाएँ लिखती हैं। आपकी रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें