मुस्लिम शासन में हिंदी फारसी के साथ-साथ चलती रही पर कंपनी सरकार ने एक ओर फारसी पर हाथ साफ किया तो दूसरी ओर हिंदी पर। - चंद्रबली पांडेय।

तुलसी के प्रति  (काव्य)

Print this

Author: रामप्रसाद मिश्र 

ओ महाकवे ! क्‍या कहें तुम्हें, 
ऋषि? स्रष्टा? द्रष्ठा? महाप्राण? 
अपनी पानवतम वाणी से 
तुम करते संस्कृति-परित्राण । 
मेरी संस्कृति के विश्वकोश 
के निर्माता जनकवि उदार, 
ओ भाषा के सम्राट, राष्ट्र 
के गर्व, भक्तिपीयूषधार ! 
अचरज होता, तुम मानव थे, 
तन में था यह ही अस्थि-चाम ! 
ओ अमर संस्कृति के गायक 
तुलसी ! तुमको शत-शत प्रणाम । 

कितने कृपालु तुम हम पर थे, 
जनवाणी में गायन गाए ! 
सद्ज्ञान, भक्ति औ' कविता के 
सब रस देकर मन सरसाए। 
मानवता की सीमाओं को 
दिखलाया अपने पात्रों में, 
ब्रह्मत्व भर दिया महाकवे ! 
तुमने मानव के गात्रों में। 
वसुधा पर स्वर्ग उतार दिया 
मेरे स्रष्टा, ओ आप्तकाम ! 
ओ अमर संकृति के गायक 
तुलसी! तुमको शत शत प्रणाम । 

-रामप्रसाद मिश्र 
धर्मयुग, जुलाई 1958 
[इसमें रचयिता का नाम आनंदशंकर लिखा था। रामप्रसाद मिश्र उन दिनों आनंदशंकर नाम से लिखते थे।]

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश