हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

बनारस (काव्य)

Print this

Author: बेढब बनारसी

बनारसवाद साहित्य का
वह वाद है जो सबसे अलग हैं,
सबसे मिला हुआ है।
कुछ लोगों का कहना है,
बनारस में साहित्यकार नहीं हैं,
उनका कथन ठीक है।
यहाँ साहित्यकार नहीं
संत होते हैं,
और जो संत नहीं होते
वह मस्त होते हैं--
वाद से परे,
विवाद से दूर
जाह्नवी को माता
विश्वनाथ को बाबा समझकर
जीवन यापन करते हैं।
वह ताव पर लिखते हैं
बनाव से भागते हैं।
इसी परंपरा का
लघु संस्करण
मैं भी हूं।

- बेढब बनारसी

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश