हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

बारह हाइकु  (काव्य)

Print this

Author: मुकेश कुमार श्रीवास्तव

मुकेश कुमार श्रीवास्तव के हाइकु 

(1)
काले काजल
नयनन में बसे
बने कटार

(2)
चूड़ी कंगन
पहन कर गोरी
किया श्रृंगार

(3)
घटती दूरी
मचलते जज्बात
बांहों के हार

(4)
पग पायल
हुआ मन घायल
सुन झंकार

(5)
नैन इशारे
कर कर तुमने
जताया प्यार

(6)
प्रेम बदले
अगर प्रेम मिले
बड़ा आभार

(7)
दोगे सम्मान
मिलेगा सम्मान ही
कहे संसार

(8)
सुंदर ज्ञान
दे गये भगवान
गीता का सार

(9)
दूषित मन
प्रदूषित आंगन
कर्म बेकार

(10)
राहें कठिन
हौसलें हैं बुलंद
मंजिल पास

(11)
मद में चूर
अभिमान बहुत
अपने दूर

(12)
करो पढाई
शरारत को छोड़
बनो महान

-मुकेश कुमार श्रीवास्तव
 मोबाइल : 9953707412
 ई-मेल: mukesh_77s@yahoo.co.in

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश