यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

फगुनिया दोहे (काव्य)

Print this

Author: डॉ सुशील शर्मा

फागुन में दुनिया रँगी, उर अभिलाषी आज।
जीवन सतरंगी बने, मन अंबर परवाज॥

आम मंजरी महकती, टेसू हँसते लाल।
मन पलाश तन संदली, फागुन धूम धमाल॥

नव पल्लव के संग में, महुआ मादक गंध।
फागुन अंबर पर लिखे, मन के नेह निबंध॥

है वसंत उत्कर्ष पर, बिखरे रंग गुलाल।
लोग फगुनिया गा रहे, ओढ़े लाल रुमाल॥

धूप फगुनिया हो गयी, मन हो उठा अधीर।
देवर बच कर भागते, भाभी मले अबीर॥

धानी चूनर ओढ़ कर ,फागुन गाये गीत।
तन अनंग मन बाँसुरी, कब आएँगे मीत ?

मादक अमराई हुई, टेसू फूल अनंग।
ऋतु वसंत है झूमती, ज्यों पी ली हो भंग॥

फगुनाहट की थाप है, रंगों की बौछार।
अपनेपन से है रँगा, फागुन का त्यौहार॥

-डॉ सुशील शर्मा

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश