साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

राजदुलारे सो जा | लोरी  (बाल-साहित्य )

Print this

Author: पं० सोहनलाल साहिर

सो जा मेरे प्यारे सो जा,
मेरे राजदुलारे सो जा!

नींद की परियाँ आओ आओ; मीठी मीठी लोरियाँ गाओ।
मेरी जान है, नन्हाँ प्यारा ; मेरा मान है नन्हाँ प्यारा।
ज्यों-ज्यों तू परवान चढ़ेगा; जग में तेरा नाम बढ़ेगा।
सो जा मेरे प्यारे सो जा,
मेरे राजदुलारे सो जा!

हिम्मत, अजमत चाकर तेरी; हशमत, शौकत चाकर तेरी।
तख़्त भी तेरा, ताज भी तेरा; बख़्त भी तेरा, बाज़ भी तेरा;
कैसे-कैसे काम करेगा, पैदा जग में नाम करेगा।
सो जा मेरे प्यारे सो जा,
मेरे राजदुलारे सो जा!

धूम से तेरा ब्याह रचाऊँ; गोरी चिट्टी बेगम लाऊँ।
धन औ दौलत तुझ पर वारूँ; राज को तेरे, सदके वारूँ।
गोद खिलाऊँ तेरे बच्चे, सो जा, सो जा मेरे बच्चे।
सो जा मेरे प्यारे सो जा,
मेरे राजदुलारे सो जा!

-पं० सोहनलाल 'साहिर' बी. ए

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें