विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग

जब यार देखा नैन भर (काव्य)

Print this

Author: अमीर ख़ुसरो

जब यार देखा नैन भर, दिल की गई चिंता उतर, 
ऐसा नहीं कोई अजब राखे उसे समझाय कर। 

जब आँख से ओझल भया, तड़पन लगा मेरा जिया, 
हक़्क़ा इलाही क्या किया, आँसू चले भर लाय कर। 

तूँ तो हमारा यार है, तुझ पर हमारा प्यार है, 
तुझ दोस्ती बिसियार है, एक शब मिलो तुम आय कर। 

जाना तलब तेरी करूँ, दीगर तलब किसकी करूँ, 
तेरी जो चिंता दिल धरूँ, एक दिन मिलो तुम आय कर। 

मेरो जो मन तुम ने लिया, तुम उठा ग़म को दिया, 
तुमने मुझे ऐसा किया, जैसा पतंगा आग पर। 

ख़ुसरो कहै बातों ग़ज़ब, दिल में न लावे कुछ अजब, 
क़ुदरत ख़ुदा की है अजब, जब जिव दिया गुल लाय कर। 

-अमीर ख़ुसरो

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश