इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।

होली (फाल्गुन पूर्णिमा) (काव्य)

Print this

Author: आचार्य मायाराम पतंग

हवन करें पापों तापों को, देशप्रेम ज्वाला में।
कपट, ईर्ष्या, द्वेष, घृणा, भूले स्नेहिल हाला में॥

शीतजनित आलस्य त्यागकर, सब समाज उठ जाए।
यह मदमाती पवन आज तन-मन में जोश जगाए।
थिरक उठें पग सभी जनों के मिलकर रंगशाला में।
कपट, ईर्ष्या, द्वेष, घृणा, भूले स्नेहिल हाला में॥

भाषा और प्रांत भेदों की हवा न हम गरमाएँ।
छूआछात की सड़ी गंध से, मुक्त आज हो जाएँ ।
पंथ, जाति का तजकर अंतर, मिलें एक माला में।
कपट, ईर्ष्या, द्वेष, घृणा, भूले स्नेहिल हाला में॥

भारत भू के कण-कण में, धन प्रेमसुधा बरसाएँ।
गौरवशाली राष्ट्र परम वैभव तक हम ले जाएँ।
मिट जाए दारिद्र्य, विषमता, परिश्रम की ज्वाला में।
कपट, ईर्ष्या, द्वेष, घृणा, भूले स्नेहिल हाला में।
हवन करें पापों तापों को, देशप्रेम ज्वाला में॥

- आचार्य मायाराम 'पतंग'
   [चुने हुए विद्यालय गीत]

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश