मुस्लिम शासन में हिंदी फारसी के साथ-साथ चलती रही पर कंपनी सरकार ने एक ओर फारसी पर हाथ साफ किया तो दूसरी ओर हिंदी पर। - चंद्रबली पांडेय।

जीत में यकीन कर (काव्य)

Print this

Author: शंकर शैलेन्द्र

तू ज़िन्दा है तो ज़िन्दगी की जीत में यकीन कर
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!

ये ग़म के और चार दिन, सितम के और चार दिन
ये दिन भी जाएँगे गुज़र, गुज़र गए हज़ार दिन
सुबह औ' शाम के रँगे हुए गगन को चूम कर
तू सुन ज़मीन गा रही है कब से झूम-झूमकर
तू आ मेरा सिंगार कर तू आ मुझे हसीन कर!

हमारे कारवां का मंज़िलों को इन्तज़ार है
यह आंधियों की, बिजलियों की, पीठ पर सवार है
तू आ क़दम मिला के चल, चलेंगे एक साथ हम
मुसीबतों के सर कुचल, बढ़ेंगे एक साथ हम
कभी तो होगी इस चमन पर बहार की नज़र!

टिके न टिक सकेंगे भूख रोग के स्वराज ये
ज़मीं के पेट में पली अगन, पले हैं ज़लज़ले
बुरी है आग पेट की, बुरे हैं दिल के दाग़ ये
न दब सकेंगे एक दिन बनेंगे इन्क़लाब ये
गिरेंगे जुल्म के महल, बनेंगे फिर नवीन घर!

- शंकर शैलेन्द्र

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश