हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

मन के धब्बे | गीत (काव्य)

Print this

Author: गोकुलचंद्र शर्मा

छुटा दे धब्बे दूँगी मोल।

धोबी ! अपनी चुंदरी लेकर आई तेरे घाट,
देख कहीं लौटा मत देना मेरा मैला पाट।
लगा दे अपना अद्भुत घोल।
छुटा दे धब्बे दूँगी मोल।

साबुन, रीठा, रेह लगाये बैठ नदी के कूल,
पर, ये ज्यों के त्यों ही पाये ना जानूँ क्या भूल ?
कि है कुछ ढंग ही डाँवाडोल ?
छूटा दे धब्बे दूँगी मोल ।

जिनके पीछे छींटे खाये वे करते उपहास,
दुनिया दूर भगा देती है पाकर मेरी बास।
पिटा है मैलेपन का ढोल।
छुटा है धब्बे दूँगी मोल।

पटक न देना पत्थर पर तू इसमें गहरी मार,
एक एक कर बिखर जाएंगे वरना भीने तार
निरख लेना तह इसकी खोल।
छुटा दे धब्बे दूँगी मोह।

प्रियतम के घर जाऊँगी मैं मार इसी की लाज,
कर दे तनिक सहारे से तू मुझ दुखिया का काज।
परख आई हूँ सबकी पोल।
छुटादे धब्बे दूँगी मोल।

जीवन भर में बचा सकी हूँ दाने जो दो चार,
वही गाँठ में बाँध चली हूँ देने को उपहार,
इन्हीं को रखले जी में तोल ।
छुटा दे धब्बे ले ले मोल ।

-गोकुलचंद्र शर्मा

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश