यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

जीत जाएंगे (काव्य)

Print this

Author: प्रिंस सक्सेना 

बंदिशों में ज़िन्दगी है,
हर तरफ मुश्किल बड़ी है,
स्वांस पर पहरा लगा है,
ये संभलने की घड़ी है।
हम नहीं इस दौर में आँसू बहाएंगे,
इक न इक दिन जीत जाएंगे॥

एक न एक दिन इस धरा पर 
एक नई शुरुआत होगी,
आसमां में देखना तुम फिर
सुकून की रात होगी,
दिल मे फिर विश्वास होगा
होंठ पे मुस्कान होगी,
गुनगुनाती बारिशों में
खुशियों की फिर तान होगी।
झूमकर नाचेंगे फिर हम मुस्कुरायेंगे
एक न एक दिन जीत जाएंगे॥

जो समय के साथ जीना
सीख लेगा वो जीएगा,
विष शिवा के जैसे पीना
सीख लेगा वो जीएगा,
वो जीएगा जो मनुजता
का सही उद्देश्य समझे,
वो जीएगा जो प्रकर्ति
का सही संदेश समझे। 
हम सभी मिलकर वही संदेश गाएंगे,
इक न इक दिन जीत जाएंगे॥

एक अंधी दौड़ में बस
हम तो दौड़े जा रहे थे,
क्या मनुजता क्या मधुरता
सब ही छोड़े जा रहे थे,
आदमी का आदमी से
प्यार था बस अर्थ का ही,
नेह के विश्वास के बंधन
को तोडे जा रहे थे।
हो नही ऐसा कभी सौगंध खाएंगे
एक न एक दिन जीत जाएंगे॥ 

--प्रिंस सक्सेना 
 ई-मेल : princegsaxena@gmail.com

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश