साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

जिंदगी | गीत (काव्य)

Print this

Author: प्रभजीत सिंह

एक शाम जिंदगी तमाम हो गई
लेने को पहुंचे जो फरिश्ते
टूट गये सब नाते-रिश्ते,
फिर रोके कुछ रूक नहीं पाया,
हाथ किसी के कुछ नहीं आया
सब देखते रहे, यह बात खुले आम हो गई
एक शाम जिंदगी तमाम हो गई

कितने थे मंसूबे बांधे,
कितने थे बेबाक इरादे,
हो न सकेंगें अब वो पूरे
रह गये सारे आधे अधूरे,
ज्यों सूरज ढलते ही शाम हो गई,
एक शाम जिंदगी तमाम हो गई

जिनसे जो कहना सुनना था,
जिनसे जो लेना देना था,
जब कांधे पर छोड़ के आये
कहना था जो कह नहीं पाये
दीवारों पर और एक फोटो आम हो गई
एक शाम जिंदगी तमाम हो गई

मोह माया है जीवन प्यारे,
मौत के आगे सब हैं हारे,
नेकी भक्ति, अच्छे कर्म,
अब सूझा है इनका मर्म,
जब तन की कोठी नीलाम हो गई

खाया पीया मौज मनाया,
जीवन का आनन्द उठाया,
अंत में कुछ भी साथ न आया,
नाटक रूपी इस जीवन में
‘अमन‘ से किरदार निभाया
अंत में ‘रूह‘ अब गुलाम हो गई
एक शाम जिंदगी तमाम हो गई

प्रभजीत सिंह
ई-मेल: delhipjs@gmail.com

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें