राष्ट्रीयता का भाषा और साहित्य के साथ बहुत ही घनिष्ट और गहरा संबंध है। - डॉ. राजेन्द्र प्रसाद।

मजदूर की पुकार  (काव्य)

Print this

Author: अज्ञात

हम मजदूरों को गाँव हमारे भेज दो सरकार
सुना पड़ा घर द्वार
मजबूरी में हम सब मजदूरी करते हैं
घरबार छोड़ करके शहारों में भटकते हैं

जो हमको लेकर आए वही छोड़ गए मझदार
कुछ तो करो सरकार
हम मजदूरों को गाँव हमारे भेज दो सरकार
सुना पड़ा घर द्वार

हमको ना पता था कि ये दिन भी आएंगे
कोरोना के कारण घरों में सब छिप जाएंगे
हम तो बस पापी पेट की खातिर झेल रहे हैं मार
कुछ तो करो सरकार
सुना पड़ा घर द्वार

-अज्ञात

[यह हृदय विदारक गीत भारत में कोरोना के समय हो रहे प्रवासी मजदूरों के पलायन के समय एक अज्ञात श्रमिक ने  गाया था।]

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें