समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

मेरे दुख की कोई दवा न करो  | ग़ज़ल (काव्य)

Print this

Author: सुदर्शन फ़ाकिर

मेरे दुख की कोई दवा न करो 
मुझ को मुझ से अभी जुदा न करो 

नाख़ुदा को ख़ुदा कहा है तो फिर 
डूब जाओ ख़ुदा ख़ुदा न करो 

ये सिखाया है दोस्ती ने हमें 
दोस्त बन कर कभी वफ़ा न करो 

इश्क़ है इश्क़ ये मज़ाक़ नहीं 
चंद लम्हों में फ़ैसला न करो 

आशिक़ी हो कि बंदगी 'फ़ाकिर' 
बे-दिली से तो इब्तिदा न करो 

-सुदर्शन फ़ाकिर

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें