दक्षिण की हिंदी विरोधी नीति वास्तव में दक्षिण की नहीं, बल्कि कुछ अंग्रेजी भक्तों की नीति है। - के.सी. सारंगमठ

ज़िंदगी तुझ को जिया है | ग़ज़ल (काव्य)

Print this

Author: सुदर्शन फ़ाकिर

ज़िंदगी तुझ को जिया है कोई अफ़्सोस नहीं 
ज़हर ख़ुद मैं ने पिया है कोई अफ़्सोस नहीं 

मैं ने मुजरिम को भी मुजरिम न कहा दुनिया में 
बस यही जुर्म किया है कोई अफ़्सोस नहीं 

मेरी क़िस्मत में लिखे थे ये उन्हीं के आँसू 
दिल के ज़ख़्मों को सिया है कोई अफ़्सोस नहीं 

अब गिरे संग कि शीशों की हो बारिश 'फ़ाकिर' 
अब कफ़न ओढ़ लिया है कोई अफ़्सोस नहीं 

-सुदर्शन फ़ाकिर

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश