हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

तड़पते दिल के लिए (काव्य)

Print this

Author: उपेन्द्र कुमार

तड़पते दिल के लिए कुछ क़रार ले आए
कहीं से प्यार की ख़ुशबू उधार ले आए

तरस गए थे फक्त हम भी ग़म की चोटों को
किसी के वादे पे फिर एतबार ले आए

उदासियाँ बड़ी पतझड़ की तरह छाई थीं,
किसी की याद से दिल में बहार ले आए

वो बेबसी थी जो मौजों से डर के बैठ गई
ये हौसले थे जो दरिया के पार ले आए

कभी जो घर के अँधेरों में ढक गई थी 'उपेन्द्र'
पलक पे अश्क सजाए निखार ले आए।

-उपेन्द्र कुमार

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश