हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी

विनीता तिवारी की दो ग़ज़लें (काव्य)

Print this

Author: विनीता तिवारी

भरा ख़ुशियों से है आँगन कि होली आई रे आई।
भिगोया इश्क़ ने तन-मन कि होली आई रे आई।

उठा लेते हैं वो आकाश सर पे रंग डालो तो,
मधुर सी हो गई अनबन कि होली आई रे आई।

हरा, पीला, गुलाबी लाल अनगिन रंग हैं बिखरे,
निखरता जा रहा यौवन कि होली आई रे आई।

खनकती झांझरे, चूड़ी, थिरकते पाँव तालों पर,
न माने दिल कोई बंधन कि होली आई रे आई।

छुड़ा लेते हैं वो दामन किसी मीठे बहाने से,
उलझ जाती है पर धड़कन कि होली आई रे आई।

कहीं गुझियों भरी थाली, कहीं ठंडाई का आलम,
बहकता जा रहा मधुबन कि होली आई रे आई।

ज़रा सा थाम के बाँहें, नज़र भर देख लेने दो,
हटा दो आज तो चिलमन, कि होली आई रे आई।

नगाड़े ढोल तासे बज रहें हैं रंग भी बिखरा,
धरा लगने लगी दुल्हन कि होली आई रे आई।

#

चलो जी आ गई होली, करूँ जो काम बाक़ी है।
किसी को दिल का, दिल से भेजना पैग़ाम बाक़ी है।

नशा बाक़ी, मज़ा बाक़ी, गुल-ओ-गुलफ़ाम बाक़ी है
कोई उम्दा ग़ज़ल कहकर लगाना दाम बाक़ी है।

सजा संवरा सा चहरा है निकल जाए न हाथों से
लगाकर रंग गालों पर पिलाना जाम बाक़ी है।

बना डाली जलेबी, दूध की ठंडाई और गुझियाँ
सफ़ाई हो चुकी घर की, बस अब आराम बाक़ी है।

किसी मीठे बहाने से कभी मिल आएँ हम उनसे
भिगोकर इश्क़ में तन मन बितानी शाम बाक़ी है।

चलो होली के रंग में घोल डाले कुछ शरारत भी
मेरी दीवानगी पर इक अभी इल्ज़ाम बाक़ी है।

कहीं चलती है पिचकारी कहीं कोड़ा कहीं गाली
नज़र से चल रहे हैं तीर, कत्ल-ए-‘आम बाक़ी है।

विनीता तिवारी
वर्जीनिया, अमेरिका

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश