हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।

यूँ कहने को बहकता जा रहा हूँ (काव्य)

Print this

Author: नरेश शांडिल्य

यूँ कहने को बहकता जा रहा हूँ
मगर सच में सँभलता जा रहा हूँ

उलझता जा रहा हूँ तुझमें जितना
मैं उतना ही सुलझता जा रहा हूँ

भले बाहर से दिखता हूँ मचलता
मगर भीतर ठहरता जा रहा हूँ

ज़मीं से पाँव भी उखड़े नहीं हैं
फ़लक तक भी मैं उठता जा रहा हूँ

नदी इक मुझमें मिलती जा रही है
मैं सागर-सा लहरता जा रहा हूँ

-नरेश शांडिल्य

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें