यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

छन-छन के हुस्न उनका | ग़ज़ल (काव्य)

Print this

Author: निज़ाम-फतेहपुरी

छन-छन के हुस्न उनका यूँ निकले नक़ाब से।
जैसे निकल रही हो किरण माहताब से।।

पानी में पाँव रखते ही ऐसा धुआँ उठा।
दरिया में आग लग गई उनके शबाब से।।

जल में ही जल के मछलियाँ तड़पें इधर-उधर।
फिर भी नहा रहे न डरें वो आज़ाब से।।

तौहीन प्यार की है करे बेवफ़ा से जो।
धोका है आस रखना वफ़ा की जनाब से।।

जी भर पिलाई साक़ी ने कुछ भी नहीं चढ़ी।
हाथों से उनके पीते नशा छाया आब से।।

बचपन की याद फिर से हमें आज आ गई।
जब से मिले हैं फूल ये सूखे किताब से।।

घुट-घुट निज़ाम अच्छा नहीं जीना प्यार में।
खुलकर जियो ये ज़िंदगी अपने हिसाब से।।

निज़ाम-फतेहपुरी
ई-मेल: nizamfatehpuri@gmail.com
ग्राम व पोस्ट मदोकीपुर
ज़िला-फतेहपुर (उत्तर प्रदेश)

निज़ाम-फतेहपुरी

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश