यह संदेह निर्मूल है कि हिंदीवाले उर्दू का नाश चाहते हैं। - राजेन्द्र प्रसाद।

कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar

जन्म- 15 अक्तूबर 1954 को रुड़की में
शिक्षा- स्नातक

साहित्य सृजन-

कहानी संग्रह- सूखे तालाब की मछलियाँ, उजले रंग मैले रंग।

उपन्यास- इतिसिद्धम, हम दोपाये हैं, आकाश मेरा भी।

गजल संग्रह- पानी की पगडंडी

देश के विभिन्न प्रदेशों से प्रकाशित 24-25 संकलनों में कहानियाँ, कविताएं व ग़ज़लें प्रकाशित।

पुरस्कार व सम्मान-

  • उपन्यास “इतिसिद्धम्” की पांडुलिपि पर वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली द्वारा ”प्रेम चन्द महेश“ सम्मान- 1989
  • उत्तर प्रदेश अमन कमेटी, हरिद्वार द्वारा “सृजन सम्मान” 1994
  • साहित्यिक संस्था ”समन्वय,“ सहारनपुर द्वारा “सृजन सम्मान” 1994
  • मध्य प्रदेश पत्र लेखक मंच, “बैतूल द्वारा काव्य कर्ण सम्मान” 2000
  • साहित्यिक सँस्था \"समन्वय,\" सहारनपुर द्वारा “सृजन सम्मान” 2006


सम्प्रति-
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की में कार्यरत।


सम्पर्क-

153-ए/8, सोलानी कुंज
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानरुड़की - 247 667 (उत्तराखण्ड)
मोबाइल- 09897336369


ईमेल- kktyagi.1954@gmail.com

Author's Collection

Total Number Of Record :1

कृष्ण सुकुमार की ग़ज़लें

कृष्ण सुकुमार की ग़ज़लें

...
More...
Total Number Of Record :1

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश