देवनागरी ध्वनिशास्त्र की दृष्टि से अत्यंत वैज्ञानिक लिपि है। - रविशंकर शुक्ल।

आराधना झा श्रीवास्तव

संप्रति सिंगापुर में प्रवास कर रही आराधना झा श्रीवास्तव लेखन और स्वतंत्र पत्रकारिता से जुड़ी हुई हैं। बिहार के दरभंगा जिले में पैदा हुई और पली बढ़ी आराधना भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता की औपचारिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद भारतीय समाचार चैनल स्टार न्यूज़ (संप्रति – एबीपी न्यूज़) में बतौर एसोसिएट प्रोड्यूसर के रुप में कार्यरत रहीं। सिंगापुर आने के बाद उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और स्विट्जरलैंड से कार्यकारी शिक्षा प्राप्त करने के साथ सिंगापुर मैंनेजमेंट यूनिवर्सिटी से  कम्युनिकेशन मैंनेजेमेंट में परास्नातक की डिग्री प्राप्त की।

सिंगापुर में हिंदी के प्रचार-प्रसार के कार्यों में आराधना का स्वैच्छिक योगदान सराहनीय है। 

आपकी लिखी हुई संवाद-नाटिकाएँ, आलेख, कविता और समीक्षा विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। छह साझा काव्य-संकलन भी प्रकाशित हो चुके हैं। आराधना अपने यूट्यूब चैनल, फ़ेसबुक पेज  'आराधना की अभिव्यक्ति' (Aradhana ki Abhivyakti) और ट्विटर खाते के माध्यम से अपनी अभिव्यक्ति को दर्शकों से साझा करती हैं।

Author's Collection

Total Number Of Record :3

तलाश जारी है...

स्वदेस में बिहारी हूँ, परदेस में बाहरी हूँ
जाति, धर्म, परंपरा के बोझ तले दबी एक बेचारी हूँ।
रंग-रूप,नैन-नक्श, बोल-चाल, रहन-सहन
सब प्रभावित, कुछ भी मौलिक नहीं।
एक आत्मा है, पर वह भौतिक नहीं।
जो न था मेरा, जो न हो मेरा
...

More...

गीता का सार

तू आप ही अपना शत्रु है
तू आप ही अपना मित्र,
या रख जीवन काग़ज़ कोरा
या खींच कर्म से चित्र।

तू मन में अब ये ठान ले,
है कर्म ही धर्म ये जान ले।
भ्रम का अपने संज्ञान ले,
तू माध्यम मात्र ये मान ले।

तुम साधन हो जिस कर्म के
...

More...

माँ अमर होती है, माँ मरा नहीं करती

माँ अमर होती है,
माँ मरा नहीं करती।
माँ जीवित रखती है
पीढ़ी दर पीढ़ी
परिवार, परंपरा, प्रेम और
पारस्परिकता के उस भाव को
जो समाज को गतिशील रखता है
उससे पहिए को खींच निकालता है
परिस्थिति की दलदल से बाहर।

माँ ममता का बीजारोपण करती
...

More...
Total Number Of Record :3

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें