हिंदी हिंद की, हिंदियों की भाषा है। - र. रा. दिवाकर।

श्रद्धांजलि हजगैबी-बिहारी | Shradhanjali Hajgaybee-Beeharry

श्रीमती श्रद्धांजलि हजगैबी-बिहारी (Mrs. Shradhanjali Hajgaybee-Beeharry) का जन्म 1987 में मॉरीशस के पूर्व प्रांत स्थित \'काँ दे मास्क पावे\' गाँव में हुआ।  आपको बहुत से लोग \'अंजलि\' के नाम से भी जानते हैं। 

\r\n

आपने माध्यमिक एवं विश्वविद्यालय स्तर की शिक्षा महात्मा गांधी संस्थान, मॉरीशस से प्राप्त की। आपने हिंदी में बी.ए. तथा एम.ए. और प्रवेशिका, परिचय, प्रथमा, मध्यमा, उत्तमा, सरल संस्कृत एवं \'संस्कृत बिगिनर्स कोर्स\' किया है।

\r\n

पिछले दस वर्षों से सृजनात्मक लेखन के क्षेत्र में सक्रिय हैं और मॉरीशस के नवोदित हिंदी कवियों में आपका नाम सम्मिलित है।

\r\n

आप लोरेटो कॉलेज, फ़ुल दे स्कूल तथा मोका फ़्लाक सरोज संघ हिंदी पाठशाला में हिंदी अध्यापिका रह चुकी हैं। विश्व हिंदी सचिवालय में कार्य की शुरुआत इंतर्न के रूप में की थी, तत्पश्चात वर्ड प्रोसेसिंग ऑपेरेटर, फिर निजी सचिव (महासचिव) बनी और व्र्त्मकन में सहायक संपादक पद पर कार्यरत हैं।

\r\n

कविता प्रतियोगिता तथा श्रुत लेखन प्रतियोगिताओं में आप पुरस्कृत हैं। विभिन्न संगोष्ठियों, सम्मेलनों तथा कार्यशालाओं में सक्रिय प्रतिभागिता की है तथा विश्व हिंदी सचिवालय के कुछ कार्यक्रमों में मंच संचालन भी किया है।

\r\n

आपकी रचनाएँ विश्व हिंदी सचिवालय द्वारा प्रकाशित ‘विश्व हिंदी साहित्य\' तथा महात्मा गांधी संस्थान द्वारा प्रकाशित ‘वसंत\' तथा ‘डायस्पोरा हिंदी संगम\' में प्रकाशित हैं।

ईमेल : hajgaybeeanjali@gmail.com

Author's Collection

Total Number Of Record :3

रिसती यादें

दोस्तों के साथ बिताए लम्हों की
याद दिलाते
कई चित्र आज भी
पुरानी सी. डी. में धूल के नीचे
मात खाकर
दराज़ के किसी कोने में
चुप-चाप सोये हुए हैं।
दबी यादें हवा के झोंकों के साथ
मस्तिष्क तक आकर रुक जातीं,
...

More...

तेरी हैवानियत

हैवानियत तेरी
भूखी थी इतनी
एक ही दम में
निगल ली
हरेक अच्छाई मेरी
मेरा स्नेह, मेरी ममता
मेरी कोमलता, मेरे स्वप्न
मेरा अक्स...

रोम रोम में बसा है
तेरे पुरुषत्व पर, तेरे नाज़ का हरेक निशान

दीवारों से टकरा कर
...

More...

आम आदमी तो हम भी हैं

नहीं आती हँसी अब हर बात पर
लेकिन ये मत समझना कि मुझे कोई दर्द या ग़म है
बस नहीं आती हँसी अब
हर बात पर

अगर हँस दें, कहीं तुम ये न समझ बैठो
कि मैं खुश हूँ अपनी हालात पर नहीं तो ठहाके लगाना हमें भी आता है

हाँ, तकलीफ़ बहुत हैं
...

More...
Total Number Of Record :3

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश