देवनागरी ध्वनिशास्त्र की दृष्टि से अत्यंत वैज्ञानिक लिपि है। - रविशंकर शुक्ल।

संध्या नायर | ऑस्ट्रेलिया

संध्या नायर एक दशक से ऑस्ट्रेलिया की निवासी हैं। पेशे से बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर हैं। आप मूलत: दिल्ली से हैं।

आपकी योग, अध्यात्म और प्राकृतिक चिकित्सा ( नेचुरोपैथी ) में गहन रुचि है और कई वर्षों से मेलबर्न(ऑस्ट्रेलिया) में निशुल्क योग शिक्षा केन्द्र चला रही हैं।

आपका अंग्रेज़ी और हिंदी साहित्य से लगाव है और दोनों भाषाओं में कविताएं लिखती हैं। कुछ कविताएं स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई है। एक काव्य संकलन पर काम कर रही हैं।

Author's Collection

Total Number Of Record :6

शिव की भूख

एक बार शिव शम्भू को
लगी ज़ोर की भूख
भीषण तप से गया
कंठ का
हलाहल तक सूख !

देखा, चारों ओर
बर्फ ही बर्फ,
दिखी पथराई !
पार्वती के चूल्हे में भी
अग्नि नहीं दिखाई !

"तुम जो तप में डूबे स्वामी
मैं भी ध्यान में खोई
...

More...

कलम इतनी घिसो, पुर तेज़--- | ग़ज़ल

कलम इतनी घिसो, पुर तेज़, उस पर धार आ जाए
करो हमला, कि शायद होश में, सरकार आ जाए

खबर माना नहीं अच्छी, मगर इसमें बुरा क्या है
कि जूते पोंछने के काम ही अखबार आ जाए

दिखाओ ख्वाब जन्नत के, मगर इतना न बहकाओ
कहीं ऐसा न हो, वो बेच कर घर बार आ जाए

...

More...

मुहब्बत की जगह--- | ग़ज़ल

मुहब्बत की जगह, जुमला चला कर देख लेते हैं
ज़माने के लिए, रिश्ता चला कर देख लेते हैं

खरा हो या कि हो खोटा, खनक तो एक जैसी है
किसी कासे में ये सिक्का चला कर देख लेते हैं

हमारी जीभ से अक्सर फिसलने को तरसता है
है कितनी दूर का किस्सा, चला कर देख लेते हैं

...

More...

कलम इतनी घिसो... | ग़ज़ल

कलम इतनी घिसो, पुर तेज़, उस पर धार आ जाए
करो हमला, कि शायद होश में, सरकार आ जाए

खबर माना नहीं अच्छी, मगर इसमें बुरा क्या है
कि जूते पोंछने के काम ही अखबार आ जाए

दिखाओ ख्वाब जन्नत के, मगर इतना न बहकाओ
कहीं ऐसा न हो, वो बेच कर घर बार आ जाए

...

More...

बड़े साहिब तबीयत के... | ग़ज़ल

बड़े साहिब तबीयत के ज़रा नासाज़ बैठे हैं
हमे डर है गरीबों से तनिक नाराज़ बैठे हैं

महल के गेट पर, सोने की तख्ती पर लिखाया है
'यहां के तख्त पर सबसे बड़े फ़य्याज़ बैठे हैं'

नया फरमान आया है, परों में सर छुपाने का
...

More...

खयालों की जमीं पर... | ग़ज़ल

खयालों की जमीं पर मैं हकीकत बो के देखूंगी
कि तुम कैसे हो, ये तो मैं ,तुम्हारी हो के देखूंगी

तुम्हारे दिल सरीखा और भी कुछ है, सुना मैंने
किसी पत्थर की गोदी में मैं सर रख, सो के देखूंगी

है नक्शा हाथ में लेकिन भटकने का इरादा है
तुम्हारे शहर को मैं आज थोड़ा खो के देखूंगी

...

More...
Total Number Of Record :6

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें