हिंदी भाषा अपनी अनेक धाराओं के साथ प्रशस्त क्षेत्र में प्रखर गति से प्रकाशित हो रही है। - छविनाथ पांडेय।

राजेश्वर वशिष्ठ

राजेश्वर वशिष्ठ का जन्म 30 मार्च, 1958 को भिवानी (हरियाणा) में हुआ।

सम्प्रति : सार्वजनिक क्षेत्र के एक बैंक में मुख्य प्रबन्धक

कृतियाँ :मुट्ठी भर लड़ाई (उपन्यास),
कविता देशांतर कनाड़ा ( कविताओं का अनुवाद )
सुनो वाल्मीकि (कविता संकलन)
ब्रह्मांड में स्त्री (कविता संकलन) शीघ्र प्रकाश्य

विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में कविताएं, कहानियां, लेख इत्यादि प्रकाशित

ई-मेल : rajeshwar_v@hotmail.com

फोन : 09674386400

 

Author's Collection

Total Number Of Record :6

कुंती की याचना

मित्रता का बोझ
किसी पहाड़-सा टिका था कर्ण के कंधों पर
पर उसने स्वीकार कर लिया था उसे
किसी भारी कवच की तरह
हाँ, कवच ही तो, जिसने उसे बचाया था
हस्तिनापुर की जनता की नज़रों के वार से
जिसने शांत कर दिया था
...

More...

जानकी के लिए

मर चुका है रावण का शरीर
स्तब्ध है सारी लंका
सुनसान है किले का परकोटा
कहीं कोई उत्साह नहीं
किसी घर में नहीं जल रहा है दिया
विभीषण के घर को छोड़ कर।

सागर के किनारे बैठे हैं विजयी राम
...

More...

उर्मिला

टिमटिमाते दियों से
जगमगा रही है अयोध्या
सरयू में हो रहा है दीप-दान
संगीत और नृत्य के सम्मोहन में हैं
सारे नगरवासी
हर तरफ जयघोष है ----
अयोध्या में लौट आए हैं राम!
अंधेरे में डूबा है उर्मिला का कक्ष
...

More...

ओम ह्रीं श्री लक्ष्म्यै नमः

हमारे घर में पुस्तकें ही पुस्तकें थीं
चर्चा होती थी वेदों, पुराणों और शास्त्रों की
राम चरित मानस के साथ पढ़ी जाती थी
चरक संहिता और लघु पाराशरी
हम उन ग्रंथों को सम्भालने में ही लगे रहते थे!
घर में अक्सर खाली रहता था
...

More...

एक पगले नास्तिक की प्रार्थना 

मुझे क्षमा करना ईश्वर
मुझे नहीं मालूम कि तुम हो या नहीं
कितने ही धर्मग्रंथों में
कितनी ही आकृतियों और वेशभूषाओं में
नज़र आते हो तुम
यहाँ तक कि कुछ का कहना है
नहीं है तुम्हारा शरीर

अब मैं तुम्हें कैसे समझाऊँ ईश्वर
...

More...

कृतज्ञ हूँ महामाया

अपनी कक्षाओं में घूम रहे हैं 
असंख्य ग्रह और उपग्रह 
जुगनुओं की तरह चमक रहे हैं तारे 
आकाश गंगा के बीच 
तुम्हें खोजता चला जा रहा हूँ मैं
जैसे कोई साधक जाता है 
देवालय अपने आराध्य की अर्चना के लिए! 
...

More...
Total Number Of Record :6

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें