यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।

होली पद  (काव्य)

Print this

Author: जुगलकिशोर मुख्तार

ज्ञान-गुलाल पास नहिं, श्रद्धा-रंग न समता-रोली है ।
नहीं प्रेम-पिचकारी कर में, केशव शांति न घोली है ।।
स्याद्वादी सुमृदंग बजे नहिं, नहीं मधुर रस बोली है ।
कैसे पागल बने हो चेतन ! कहते ‘होली होली है' ।।

ध्यान-अग्नि प्रज्जवलित हुई नहिं, कर्मेन्धन न जलाया है ।
असद्भाव का धुआं उड़ा नहिं, सिद्ध स्वरुप ना पाया है ।।
भीगी नहीं जरा भी देखो, स्वानुभूति की चोली है ।
पाप-धुली नहीं उड़ी, कहो फिर कैसे ‘होली होली है' ।।

-जुगलकिशोर मुख्तार
[रघुवीर भारती]

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश