विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग

कानून मिला हमको  (काव्य)

Print this

Author: प्रदीप चौबे

दिल्ली, बंबई, काशी, देहरादून मिला हमको,
बस्ती-बस्ती इंसानों का खून मिला हमको।

वे जाने किस मौसम के पंछी होंगे जिनकी,
ऑंखें सावन-भादो, चेहरा जून मिला हमको।

जिनकी जेबों में झरने थे, खातों में गुलशन
उनकी सोचों के भीतर नाखून मिला हमको।

हँसते में रोता सा लगता, रोते में हँसता,
इस बस्ती का आदम अफलातून मिला हमको।

अंधा, बहरा, लंगड़ा, लूला कोने में दुबका,
एक मिनिस्टर के घर पर कानून मिला हमको।

-प्रदीप चौबे

 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश