भाषा विचार की पोशाक है। - डॉ. जानसन।

हक़ | क्षणिका (काव्य)

Print this

Author: सुफला सेठी

रोशनी बेचने का हक़ ,
सबको नहीं मिला करता;
सूरज का मैं ,
नूर-ए-चश्म हो गया हूँ।

- सुफला सेठी 
  ईमेल: suflasethi@gmail.com

 नूर-ए-चश्म = आँख की रोशनी, लड़का, सुपुत्र, प्यारा बेटा, फ़र्ज़ंद, प्यारी बेटी

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें