हिंदी भाषा अपनी अनेक धाराओं के साथ प्रशस्त क्षेत्र में प्रखर गति से प्रकाशित हो रही है। - छविनाथ पांडेय।

रक्षा बंधन का इतिहास व पौराणिक कथाएं (विविध)

Print this

Author: भारत-दर्शन संकलन

रक्षा बंधन का त्यौहार श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। उत्तरी भारत में यह त्यौहार भाई-बहन के अटूट प्रेम को समर्पित है और इस त्यौहार का प्रचलन सदियों पुराना बताया गया है। इस दिन बहने अपने भाई की कलाई पर राखी बाँधती हैं और भाई अपनी बहनों की रक्षा का संकल्प लेते हुए अपना स्नेहाभाव दर्शाते हैं।

रक्षा बंधन का उल्लेख हमारी पौराणिक कथाओं व महाभारत में मिलता है और इसके अतिरिक्त इसकी ऐतिहासिक व साहित्यिक महत्ता भी उल्लेखनीय है।

आइए, रक्षा-बंधन के सभी पक्षों पर विचार करें।

 

Back

Other articles in this series

वामनावतार रक्षाबंधन पौराणिक कथा
इन्द्र और महारानी शची | भविष्य पुराण
महाभारत संबंधी कथा
रक्षा बंधन का ऐतिहासिक प्रसंग
रक्षा बंधन - चंद्रशेखर आज़ाद का प्रसंग
रक्षा बंधन साहित्यिक संदर्भ
फिल्मों में रक्षा-बंधन
 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें