वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं। - मैथिलीशरण गुप्त।

क्या होगा | गीत (काव्य)

Print this

Author: कुसुम सिनहा

सपनों ने सन्यास लिया तो 
पगली आंखों का क्या होगा 
आंसू से भीगी अखियां भी 
सपनों में मुस्काने लगतीं। 

कितनी ही ददर्दीली श्वासें 
प्रीत जगे तो गाने लगती।
प्रीत हुई बैरागिन 
भोली श्वासों का क्या होगा।

प्रीत न लेती जनम धरा पर 
तो सांसों के फूल न खिलते। 
यमुना जल पानी कहलाता, 
यदि राधा के अश्रु न मिलते। 

झूठी है यदि अश्रु कथाएं तो,
इतिहास का क्या होगा
तिल तिल जलकर ही दीपक ने
मंगलमय उजियारा पाया 
जितना दुख सह लेता है मन, 
उतनी उजली होती काया।

पुण्य पाप से हार गए तो,
इन विश्वासों का क्या होगा?

- कुसुम सिनहा

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश