हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

पीड़ा का वरदान (काव्य)

Print this

Author: विष्णुदत्त 'विकल

क्यों जग के वाक्-प्रहारों से हम तज दें अपनी राह प्रिये! 

जीवन बहता है जिस प्रवाह बस उस प्रवाह बह लेने दो, 
दुनिया हम को पागल कहती, सुन लो, उस को कह लेने दो, 
क्या उचित और क्या है अनुचित, किस को इस का है ज्ञान यहाँ 
हम पागल हैं या जग पागल, कर सका कौन पहचान यहाँ? 

उलझनों भरी इस दुनिया में मुश्किल है पाना थाह प्रिये!
क्यों जग के वाक्-प्रहारों से हम तज दें अपनी राह प्रिये!

कुचला जाता है पद-पद पर, धोके से लेकर प्यार यहाँ, 
इन्सानों से हैवानों सा दुनिया करती व्यवहार यहाँ, 
सब कुछ अर्पण कर देना भी अपनी ही तो थी भूल यहाँ, 
फूलों के बदले इस कारण हम को मिलते हैं शूल यहाँ, 

फिर भी गाओ, गा लेने दो, क्यों भरें यहाँ हम आह प्रिये?
क्यों जग के वाक-प्रहारों से हम तज दें अपनी राह प्रिये!

हो घायल उर तब भी अधरों पर खिली रहे मुस्कान यहाँ, 
सिर पर उपलों का हो वर्षण हम कभी न होवें म्लान यहाँ, 
हम ने खुद जीवन में चाहा पीड़ा का ही वरदान मिले, 
कुछ टीस मिले, कुछ दर्द मिले, मर मिटने का अरमान मिले, 

जब शेष हमारे जीवन में कुछ और नहीं है चाह प्रिये!
क्यों जग के वाकू प्रहारों से हम तज दें अपनी राह प्रिये!

-विष्णुदत्त 'विकल

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश