हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

इसलिए तारीख ने... | ग़ज़ल (काव्य)

Print this

Author: भवानी शंकर

इसलिए तारीख ने हमको कभी चाहा नहीं,
हम अकेले हैं हमारे पास चौराहा नहीं।

चौखटों के पार चमड़े का भरा बाजार है,
और कानों में हमारे इत्र का फाहा नहीं।

तख़्त चेहरों का कभी पलटेगा तो बात और है,
अब तलक तो हमने अपनी रूह को ब्याहा नहीं।

आज चोली है कहीं पर और दामन है कहीं,
और इस संबंध को किस किसने निर्वाहा नहीं।

दोस्तो, तुमने बहुत चाहा मगर हम क्या करें,
ज़िन्दगी बाक़ायदा होती कभी स्वाहा नहीं।

-भवानी शंकर

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश