हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

छाया के नहीं मिलते... (काव्य)

Print this

Author: ज़फ़रुद्दीन ज़फ़र

छाया के नहीं मिलते दो पल भी आजकल,
डरने लगे हैं तपिश से बादल भी आजकल।

रोता है अगर दिल तो अपनी दहलीज़ तक,
आंखों से नहीं बहते काजल भी आजकल।

तुम कांटे जिधर चुभें उन राहों को छोड़ दो,
इतना तो जानते हैं ये पागल भी आजकल।

इस उम्मीद से कि कभी वो वापस आ जाए,
मैं घर में नहीं लगाता सांकल भी आजकल।

ये ऐसा नहीं कि मंहगा है पेट्रोल डीजल ही,
सस्ते तो नहीं है दाल चावल भी आजकल।

लोगों के कारनामों से क्या से क्या हो गया,
साफ़ नहीं रह गया गंगाजल भी आजकल।

सत्ताधीश ही नहीं लोगों के दर्द से बे-खबर,
सो गए हैं तमाम विपक्षी दल भी आजकल।

ज़िन्दगी ने रख दिए हैं इतने कठिन सवाल,
दौलत बिना नहीं उनके हल भी आजकल।  

ज़फ़र मुश्किल है पहचानना अपना-पराया,
वफ़ा के सांचे में क़ैद है छल भी आजकल।

-ज़फ़रुद्दीन ज़फ़र, दिल्ली, भारत
 ई-मेल : zzafar08@gmail.com

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश